सरकारी कर्मियों और पत्रकारों को प्रशासन दे ५० लाख का जीवन सुरक्षा कवच

समर प्रताप सिंह
ठाणे। कोरोना संकट के समय सेवा देनेवाले कोई भी महापालिका कर्मचारी, अधिकारी,  डॉक्टर, नर्स , आरोग्य कर्मचारी,आशा वर्कर, शिक्षक वर्ग, पत्रकार हो या फिर निजी नियुक्ति पर मनपा में सेवा देनेवाले, उन्हें कोरोना संकट के बीच ५० लाख का बीमा सुरक्षा कवच दिया जाए।
यदि इन लोगों में से किसी की भी कोरोना संक्रमण के कारण मौत हो जाती है तो उनके परिजनों को ५० लाख का जीवन सुरक्षा कवच राशि उपलब्ध हो सके। इसके लिए  कांग्रेस नेता संजय घाडीगावकर ने पालकमंत्री एकनाथ शिंदे, महापौर नरेश ह्मस्के तथा ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. विपीन शर्मा से लिखित आग्रह किया है।
ठाणे शहर इस समय कोरोना की दूसरी लहर की चपेट में है।
ठाणे मनपा प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग के साथ ही संबंधित अधिकारी और कर्मचारी, निजी कोविड अस्पताल की टीम कोरोना लहर को कम करने के प्रयास में जुटी है। लेकिन ठाणे शहर में ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो सरकार और प्रशासन के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं। जिस कारण कोरोना का प्रसार हो रहा है।
कोरोना की दूसरी लहर के कारण निजी व शसकीय अस्पताल में बेड नहीं है। इस स्थिति को देखते हुए संजय घाडीगावकर ने आग्रह किया है कि कोरोना की पहली लहर के समय ठाणे शहर में कोविड अस्पताल  वागळे इस्टेट ,कळवा, मुंब्रा ,घोडबंदर रोड आदि में शुरू किए थे। उसे फिर से चालू किया जाए।
इन अस्पतालों में तत्काल आरोग्य कर्मचारी ,दवाऐं, इंजेक्शन, वेंटीलेटर ,ऑक्सीजन व्यवस्था, भोजन व्यवस्था, डॉक्टर, नर्स आदि उपलब्ध कराया जाए। इसके साथ ही ठाणे के बाळकुम स्थित ठाणे महापालिका के ग्लोबल कोविड अस्पताल भी पहले की क्षमता के अनुरुप शुरू किया जाए। उन्होंने आग्रह किया है कि निजी अस्पतालों में ५० प्रतिशत बेड मनपा प्रशासन अपने कब्जे में लें। ठाणे व वागळे इस्टेट डॉक्टर संगठन से संपर्क साधकर निजी डॉक्टरों की भी मदद ली जाए।

187 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: