ब्रह्माला तालाब की वृक्ष प्राधिकरण विभाग को परवाह नहीं-कृष्णा पाटिल

समर प्रताप सिंह
ठाणे। ताऊते चक्रवात के कहर को ठाणे शहर ने भी झेला। चक्रवात के दौरान ठाणे शहर के मध्य भाग में स्थित ब्रह्माला तालाब में भी पेड़ गिरे। लेकिन तीन सप्ताह बीत जाने के बाद भी ब्रह्माला तालाब पर स्थित पेड़ो की टहनियों की छटनी का काम नहीं किया गया है। ठाणे मनपा के वृक्ष प्राधिकरण विभाग की लापरवाही के कारण तालाब की स्थिति चिंताजनक है। इन बातों का जिक्र करते हुए स्थानीय नगरसेवक कृष्णा पाटील ने मनपा आयुक्त डॉ. विपीन शर्मा को लिखित निवेदन दिया है। जिनमें इन बातों का जिक्र किया गया है।
सालों पहले न्यायालय के आदेश के बाद ठाणे मनपा प्रशासन ने ब्रह्माला तालाब को अवैध अतिक्रमण से मुक्त किया था। उसके तालाब का सौंदर्यीकरण किया गया। स्थानीय नागरिक तालाब पर ही र्मािनंग वॉक भी करते हैं। लेकिन गत दिनों ठाणे शहर में ताऊते चक्रवात आया, ब्रह्माला तालाब में भी दर्जनों पेड़ गिरे थे। जिस कारण मार्निंग वॉक करनेवाले नागरिकों को परेशानी हो रही थी। इन बातों का जिक्र करते हुए कृष्णा पाटील का कहना है कि उन्होंने इसको लेकर वृक्ष पधिकरण विभाग को सूचित भी किया। लेकिन पेड़ों की छटनी का काम नहीं किया गया।
यहां जॅगिंग ट्रेक भी बाधित है। लेकिन अभी तक वृक्ष प्राधिकरण विभाग के अधिकारियों ने तालाब का दौरा तक नहीं किया है। इस बारे में वृक्ष प्राधिकरण विभाग की खैरे मेडम ने बताया कि विभाग के पास साधनों व मानव बलों की कमी है। साथ ही कहा गया कि यह काम वृक्ष प्राधिकरण विभाग का नहीं  बल्कि उद्यान विभाग का है। बताया गया कि संबंधित ठेकेदारों को पिछले साल के बिल का भुगतान नहीं किए जाने के कारण वे अधिकारियों की नहीं सुन रहे हैं। लेकिन प्राधिकरण विभाग के धावडे भी किसी तरह का प्रतिसाद नहीं दे रहे हैं। इन बातों का जिक्र पाटील ने किया है।

नगरसेवक पाटील का कहना है कि ब्रह्माला तालाब की देखभाल के लिए जिसे ठेका दिया गया था, वह फरार है। तालाब में सुरक्षा गार्ड होने के बाद भी अपराधी यहां स्थित मंदिर की दानपेटी के साथ ही सिटींग बेंच चुरा ले गए। उन्होंने चोरों के खिलाफ मामले दर्ज कराने की मांग की है। पाटील का आरोप है कि वृक्ष प्राधिकरण विभाग में सक्षम अधिकारी नहीं होने के कारण इस तरह की समस्या पैदा हो रही है। कामचोर अधिकारियों के कारण ऐसी स्थिति है।

87 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: