गोल्डेन गैंग के निशाने पर ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. शर्मा

गोल्डेन गैंग के निशाने पर ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. शर्मा
ठाणे। इस सच से इंकार नहीं किया जा सकता है कि ठाणे मनपा आयुक्त डा. विपीन शर्मा कर्तव्यनिष्ट  अधिकारी हैं। कोरोना संकट के समय राजनीतिक दबाब से परे रहकर उन्होंने कोरोनारोधी जो भी उपाय योजनाएं की, आज उसी का परिणाम है कि शहर कोरोनामुक्त होने के कगार पर है। इन बातों का जिक्र करते हुए महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी सदस्य मिलिंद खराडे ने आरोप लगाया है कि ठाणे मनपा में सक्रिय गोल्डेन गैंग डॉ. शर्मा को अपना अगला निशाना बना सकते हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि जिस तरह ठाणे मनपा के पूर्व आयुक्त संजीव जायसवाल को एक युवती के माध्यम से फंसाने का साजिश की गई थी, उसी तरह की साजिश डॉ. शर्मा के साथ भी हो सकती है।
इस बाबत राज्य के सीएम उद्धव ठाकरे और ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. विपीन शर्मा को मिलिंद खराडे ने लिखित निवेदन दिया है। निवेदन में उपरोक्त का जिक्र किया गया है। इसी संदर्भ में खराडे ने कहा है कि जायसवाल की तरह ही नागपुर मनपा के पूर्व आयुक्त तुकाराम शिंदे ने भी खुलासा किया है कि विरोधियों ने उन्हें फंसाने हेतु एक महिला को आगे किया था। उस महिला ने तुकाराम शिंदे पर अश्लीलता करने का आरोप लगाया। खुद शिंदे ने इस बात का खुलासा किया है।
इसी परिप्रेक्ष्य में खराडे ने राज्य $के सीएम उद्धव ठाकरे को लिखे निवेदन में मांग की है कि तुकारामम शिंदे प्रकरण की जांच करवाई जाए। अन्यथा शिंदे और जायसवाल की भांति ठाणे मनपा के वर्तमान मनपा आयुक्त डॉ. विपीन शर्मा को भी ऐसी साजिश में फंसाया जा सकता है।  यदि तुकराम शिंदे का आरोप सही है तो राज्य सरकार इस मामले को गंभीरता से ले।
कहा गया है कि ठाणे मनपा के पूर्व आयुक्त संजीव जायसवाल जब अनुचित राजनीतिक दबावों में नहीं आए थे तो ठाणे मनपा में सक्रिय गोल्डेन गैंग ने उन्हें फंसाने की साजिश रची थी। लेकिन न्यायालय ने युवती द्वारा लगाए गए आरोपों को निराधार बताते जायसवाल को बरी कर दिया था। खराडे ने राज्य सरकार को आगाह किया है कि यदि ऐसे मामलो की जांच नहीं करवाई गई तो आगे अन्य कोई ईमानदार पदाधिकारी को भी बलि का बकरा बंनाया जा सकता है। ऐसी आशंका खराडे ने जताई है।

37 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: