लॉकडाऊन के खिलाफ सडकों पर उतरे मुंब्रा के नागरिक

समर प्रताप सिंह
ठाणे। राज्य सरकार के लॉकडाऊन के निर्णय के खिलाफ आम नागरिकों के साथ ही सामान्य व्यापारियों में भी गहरा रोष है। इसका नजारा मुंब्रा में देखने को मिला। मुंब्रा-कौसा के तमाम व्यापारी और कारोबारी के साथ ही नागरिकों ने सडकों पर उतरकर लॉकडाऊन का विरोध किया। उत्तेजित भीड को शांत करने में मुंब्रा के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक मधुकर कड को पसीने बहाने पड़े। आंदोलन का समापन शांति से होने के कारण किसी के भी खिलाफ मामले दर्ज नहीं किेए गए।
विदित हो कि सरकार ने अत्यावश्यक सेवा को छोडकर अ़न्य तमाम दुकानों को बंद करने का आदेश दिया है। जानकारी के अनुसार मुंब्रा के दारुल फालाह मस्जिद के समीप स्थित गुलाब पार्क मार्केट में उतेतजित व्यापारी एकजुट हुए। इसके बाद जारी लॉकडाऊन का विरोध करने वे सडकों पर उतरे। मांग की गई दुकानों को लेकर लॉकडाऊन में  शिथिलता बरती जाए। साथ ही मस्जिद में नमाज अदा करने की भी अनुमति प्रशासन दें। इसको लेकर स्थानीय नगरसेवकों ने ठाणे मनपा आयुक्त डॉ. विपीन शर्मा तथा ठाणे जिला धिकारी राजेश नार्वेकर के साथ भी पत्रव्यवहार किया है।
इसी क्रम में एनआईएम के नगरसेवक शाह आलम ने ठाणे मनपा आयुक्त और ठाणे जिलाधिकारी को निवेदन देकर मांग की है कि कोरोना प्रसार निश्चित तौर पर चिंता का विषय है। लेकिन सौ प्रतिशत दुकानें बंद नहीं की जानी चाहिए। इससे लोगों के मरने की नौबत भी हो सकती है। गरीबों का तो लॉकडाऊन के कारण बुरा हाल होगा। अलग-अलग एरिया में चरणबद्ध क्रम में लॉकडाऊन नहीं लगाकर सरकार भारी भूल कर रही है। ऐसा शाह आलम का कहना था।
मुंब्रा की उतेजित जनता को शांत करने में स्थानीय पुलिस बलों के पसीने बहे। वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक मधुकर कड लगातार आंदोलनकारियों को समझाते रहे। साथ ही संयम बरतने का भी आग्रह किया। जिसका लोगों पर अच्छा असर पड़ा। विरोध आंदोलन के दौरान किसी तरह की हिंसा देखने को नहीं मिली। स्थानीय पुलिस ने राहत की सांस ली।
48 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: