मुख्यमंत्री संवाद कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त किया ठाणे जिला सरपंच रघुनाथ खाकर और आशाताई सेविका रोहणी भोंडीवले।

दिनेश शुक्ला

मुख्यमंत्री ने मांगी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए किए गए उपायों की जानकारी।

ठाणे। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री उद्धव ठाकरे ने आज राज्य के सरपंच और आशा स्वयंसेवी के साथ बातचीत की। इस संवाद कार्यक्रम में ठाणे जिले के मुरबाड तालुका के वल्हिवरे गांव के सरपंच रघुनाथ खाकर और कलबंद गांव की रोहिणी भोंडिवले, आशा स्वयंसेवक को अपने विचार व्यक्त करने का अवसर मिला।
सरपंच श्री. खाकर ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे गांव में अभी तक कोई कोरोना नहीं मिला है और गांव पूरी तरह से कोरोना मुक्त है। गांव में संक्रमण रोकने के लिए मार्च 2020 में गांव को लॉकडाउन कर दिया गया था। नागरिकों को वायरस और इसके लक्षणों के बारे में सूचित करने के लिए ग्राम सतर्कता समिति का गठन किया गया था। उन्होंने नागरिकों के भय को कम करते हुए त्रिसूत्री के नियमों को राजी किया। जिसके चलते गांव बार-बार हाथ धोने का आदी हो गया है। उन्होंने भीड़ नियंत्रण पर जोर दिया क्योंकि गांव मालशेज की तलहटी में है। पूरे गांव में आर्सेनिक एल्बम की गोलियां बांटी। गांव के हर नागरिक का सर्वे किया। साथ ही गांव के जंगल में मिलने वाला ‘गुलवेल’ गांव के हर घर में बांट दिया जाता था, इसलिए लोगों ने ‘गुलवेल’ का अर्क पिया। वहीं, अधिकांश ग्रामीणों का टीकाकरण किया गया। सरपंच ने मुख्यमंत्री से बात करते हुए कहा कि तीसरी लहर भी गांव के लिए तैयार कर ली गई है और गांव वाले अच्छा सहयोग कर रहे हैं जिससे गांव अंत तक कोरोना मुक्त रहेगा।
आशा स्वयंसेवक रोहिणी भोंडिवले ने भी कोरोना माई रिस्पॉन्सिबिलिटी अभियान के दौरान मेरे परिवार का सर्वेक्षण किया और कोरोना रोगियों के साथ-साथ तपेदिक, मधुमेह, कैंसर, साड़ी, उच्च रक्तचाप आदि से पीड़ित लोगों को रेफरल सेवाएं प्रदान कीं।

जिला कलेक्टर राजेश नार्वेकर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. भाऊसाहेब डांगडे, उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी (ग्राम पंचायत) चंद्रकांत पवार और सरपंच उपस्थित थे। आशा स्वयंसेवक संवाद कार्यक्रम के दौरान जिला सर्जन डॉ. डॉ. कैलास पवार, जिला स्वास्थ्य अधिकारी मनीष रंगे, आशा स्वयंसेवक उपस्थित थे।

127 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: