मनपा चुनाव में कांग्रेस को वार्ड रचना में गड़बड़ी होने की आशंका !

समर प्रताप सिंह
ठाणे। राज्य चुनाव आयोग ने एक सदस्य पद्धति से ठाणे महानगरपालिका चुनाव कराने का निर्देश जारी किया है।  इस निर्देश का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए। कांग्रेस की ओर से आशंका जाहिर की गई है कि चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन इमानदारी से ठाणे मनपा के चुनाव के संदर्भ में नहीं किए जाने की आशंका है। इस तरह के आरोप कांग्रेस नेतृत्व की ओर से लगाए गए हैं। आयोजित पत्रकार परिषद में ठाणे काँग्रेस अध्यक्ष विक्रांत चव्हाण, जिला  इंटक काॅग्रेस अध्यक्ष सचिन शिंदे, प्रदेश सदस्य राम भोसले, सुखदेव घोलप, प्रदेश कमेटी के सदस्य राजेश जाधव, जेष्ठ उपाध्यक्ष भालचंद्र महाडिक, महेंद्र म्हात्रे, प्रदेश काँग्रेस सचिव आफताब शेख, काॅग्रेस प्रवक्ता रमेश इंदिसे, गिरीश कोळी, ब्लाॅक अध्यक्ष संदिप शिंदे, रविंद्र कोळी, रेखा मिरजकर, अक्रम बन्नेखान आदि पदाधिकारी उपस्थित थे।

इस दौरान ठाणे शहर अध्यक्ष विक्रांत चव्हाण ने कहा कि निष्पक्ष चुनाव संपन्न करवाने हेतु चुनाव आयोग ने कई मार्गदर्शक सूचना दी है।  जिस पर अमल किया जाना आवश्यक है। इसी क्रम में उन्होंने कहा कि प्रभाग रचना के लिए ठाणे मनपा आयुक्त ने जिस समिति का गठन किया है उसमें शामिल सदस्य अपनी योग्यता पर खरे नहीं उतरते हैं। वर्ष 2017 के चुनाव में जिस पद्धति से समिति का गठन किया गया था। जिसमें  जिलाधिकारी व तत्सम अधिकारियों का भी समावेश किया गया था । इस समिति में विविध स्थानों पर विवादास्पद रहे अधिकारी अशोक बुरपुल्ले का भी समावेश किया गया है ।  समिति में सदस्य के तौर पर शामिल किया  जाना गंभीर चिंता का विषय है। वर्ष 2017 के चुनाव  से संबंधित कागज पत्र भी पत्रकार परिषद में प्रस्तुत किया गया। जिसके आधार पर कांग्रेस की ओर से आरोप लगाया गया था कि पैनल गठन में सत्ताधारी पक्ष की ओर से मनमानी हुई है तथा उन्हें तथाकथित अधिकारियों का सहयोग मिला था। उस समय आरक्षित सीटों के साथ भी छेड़खानी की गई थी । चुनाव आयोग की ओर से जारी किए गए परिपत्रक में भी इसी तरह के फेरफार होने की बात सामने आ रही है। कांग्रेस की ओर से मांग की गई है कि प्रभाग रचना के समय चुनाव आयोग के निर्देशों का कड़ाई से पालन हो तथा प्रभाग रचना पारदर्शक होने के लिए आवश्यक है कि चुनाव आयोग के निर्देश का 100% पालन किया जाए।  अन्यथा इसमें गड़बड़ी की संभावना सुनिश्चित है। ऐसी आशंका विक्रांत चव्हाण  ने व्यक्त की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यदि उनकी शिकायतों को प्रशासनिक स्तर पर गंभीरता से नहीं लिया जाता है तो वह इस संदर्भ में लिपिबद्ध शिकायत पत्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले और बालासाहेब थोरात  के सामने प्रस्तुत करेंगे।

73 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: