मनपा ने नागरिकों पर 600 रुपये का बढ़ाया उपभोक्ता कर

राधेश्याम सिंह

वसई । महानगरपालिका द्वारा नागरिकों पर लगाए गए उपभोक्ता कर को वापस लिए बिना मनपा ने संपत्ति कर में मात्र एक प्रतिशत की छूट देकर नागरिकों को लामबंद किया है। पहले से ही कारोना से आम नागरिक परेशान हैं। महानगर पालिका से कर राहत नहीं मिलने से आम नागरिक बेबस है।

संपत्ति कर में कमी के साथ, वसई-विरार शहर महानगरपालिका कर संग्रह के लिए नई रणनीति पेश करके अधिकतम कर एकत्र करने की कोशिश मनपा कर रही है। वही आर्थिक संकट का नागरिक सामना कर रहा है क्योंकि कोरोना के कारण तालाबंदी की गई है। चालू वर्ष में मनपा ने नागरिकों को कर में राहत देने की बजाय नागरिकों पर 600 रुपये का बढ़ाया उपभोक्ता कर । इससे शहर में महानगर पालिका के खिलाफ नागरिको में आक्रोश का माहौल है। बढ़े हुये उपभोक्ता कर को खत्म करने की मांग की गई थी।

केवल एक प्रतिशत छूट

समाज सेविका सुदीप्ति सिंह ने माँग किया है कि महानगर पालिका इस साल संपत्ति कर में राहत दे क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर ने नागरिकों की आर्थिक स्थिति को कमजोर कर दिया है।महानगर पालिका ने आम नागरिकों के लिये एक ख्याली पोलाव के तहत एक स्किम लाया है जो घर टैक्स उपभोक्ता 15 दिन के अंदर घर टैक्स भरेगा तो उसको एक प्रतिशत छूट दी जायेगी। लेकिन महानगर पालिका पहले 600 सौ रुपये उपभोक्ता कर बढ़ा देती है उसके बाद एक प्रतिशत घर टैक्स कम करने की अपील करके घर टैक्स भरने वाले उपभोक्ताओं के साथ धोखाधड़ी किया जा रहा है। वही शिवशेना के वसई विरार अल्पसंख्यक प्रमुख सलीम आर खान उर्फ शारुख ने नाराजगी जताते हुए कहा है कि
महानगरपालिका घर मालिकों से संपत्ति कर, शिक्षा कर, वृक्ष कर, रोजगार गारंटी कर, अग्निशमन, पानी बिल जैसे विभिन्न कर लगा रही है।उसके बावजूद नागरिकों पर 600 रुपये उपभोक्ता कर बढ़ाकर आमनागरिको को और आर्थिक संकट में डाल दिया है । वसई विरार मनपा ने 15 दिन के अंदर घर टैक्स भरने वालो को एक फीसदी रियासत देने का अपील करके नागरिकों के साथ मनपा खिलवाड़ कर रहे है ।एक तरफ मनपा उपभोक्ता कर बढ़ा देती है । तो वही दूसरी तरफ एक प्रतिशत रियायत देने की अपील वसई विरार मनपा अधिकारी कर रहे है ।

महानगर पालिका का सहयोग करें ; उपायुक्त

मनपा ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए नागरिकों को संपत्ति कर का भुगतान करना शुरू कर दिया है।  हालांकि, कोविड के कारण नागरिकों से मनपा ने अपील किया था की कर भुगतान केंद्र बंद होने के कारण अपने करों का ऑनलाइन भुगतान करें।  लेकिन इस साल मनपा के खजाने में केवल 5 करोड़ रुपये जमा हो पाए हैं। इतनी कम राशि की वसूली से महानगर पालिका पर आर्थिक संकट आ गया है। मनपा कर संग्रह को अधिकतम कैसे वसूल किया जाए। इसके लिए मनपा नागरिकों से 1 प्रतिशत रियायतें देकर टैक्स भरने की अपील कर रही है। मनपा के उपायुक्त प्रदीप जंभाले पाटिल ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि मनपा द्वारा दी गई छूट शासन के नियमानुसार है। मनपा ने अन्य रूपों में भी करदाताओं को राहत दी है। नागरिकों से अपील की है कि वे समय पर कर अदा कर महानगर पालिका का सहयोग करें।

75 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: