हत्या को आत्महत्या बता रहे अधिकारी राजस्थान में कानून व्यवस्था की स्थिति जर्जर-एड. बी. एल. शर्मा

वरिष्ठ संवाददाता।
ठाणे। राजस्थान के करोली जिले के बूकना गांव में दिल दहलाने वाली घटना में मंदिर की जमीन को लेकर हुए विवाद में दबंगों ने मंदिर के पुजारी बाबूलाल वैष्णव को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया। पुजारी की इलाज के दौरान मौत हो गई। ब्रह्म फाउंडशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एड. बी. एल. शर्मा ने अपराध की निंदा करते हुए राज्य के सीएम अशोक गहलोत से निवेदन किया है कि  लापरवाह पुलिस अधिकारियों को तुरंत बर्खास्त करें। साथ ही मांग की गई है कि हत्या के मामले को फास्ट ट्रेक न्यायालय के हवाले किया जाए।
इस अपराध को लेकर पूरा ब्राह्मण समाज आक्रोशित है। पुजारी ने मौत से पहले ही आरोपियों के नाम बता दिए थे। आरोपी कैलास को गिरफ्तार करने में पुलिस ने २४ घंटे का समय लगा दिया। कैलास मीणा के अलावा हत्या में शामिल अन्य अ्रपराधियों को जल्द गिरफतार किया जाए। इन बातों की मांग करते हुए एड. शर्मा ने कहा है कि संबंधित अधिकारियों को हटाया जाए। इसके साथ ही आरोपियों को सहयोग करनेवाले अधिकारियों को भी हटाने की मांग की गई है।
दुख की बात है कि मामले की जांच करनेवाले अधिकारी जांच से पहले ही इस हत्या  की घटना को आत्महत्या बताने पर आमदा था। ब्राह्मण पुजारी का निर्मम हत्या किया जाना साफ दर्शा रहा है कि राज्य में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रही है। सीएम गहलौत को लिखे निवेदन में कहा गया है कि यहा समाजविरोधी तत्व सक्रिय हैं।
संस्था के नवीं मुंबई प्रभारी राजेंद्र दाधीच, भाईंर प्रभाग अध्यक्ष आचार्य सुभाष शर्मा,  वरिष्ठ पदाधिकारी पवन शर्मा, बिहारीलाल शर्मा ने सीएम गहलौत से आग्रह किया है कि पीडि़त परिवार की  मंाग को सरकार पूरा करे। मृत पुजारी का उचित अंतिम संस्कार किया जाए। साथ ही पीडि़त परिवार को सुरक्षा मुहैय्या कराने का भी आग्रह किया गया है। मंदिर की जमीन मृत पुजारी के परिवार के नाम करने की भी मांग की गई है।
176 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: