फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की मांग-कैट

नागालैंड को भारत के बाहर का हिस्सा बताने पर कैट ने फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की मांग की।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के महानगर अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय खाद्य तेल व्यापारी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंकर ठक्कर ने बताया कि फिलिपकार्ड ने अपने ट्विटर हैंडल में नागालैंड को भारत के बाहर का हिस्सा बताया है जिसकी वजह से देशभर में काफी नाराजगी है इसी नाराजगी को लेते हुए कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने सरकार से फ्लिपकार्ट के खिलाफ देशद्रोह की कार्यवाही तुरंत शुरू करने की माँग की है।

उन्होने कहा कि फ्लिपकार्ट ने अपने अधिकृत ट्विटर हैंडल से नागालैंड को भारत से बाहर का हिस्सा बताया जिसको लेकर सोशल मीडिया पर बेहद हलचल है । कैट ने कहा की वो इस गंभीर मामले को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ शीघ उठाएगा। कहा की उक्त ट्वीट को डिलीट कर देने से फ्लिपकार्ट को माफी नहीं मिल सकती है। भारत में रहकर देश के एक राज्य को देश से बाहर बताना एक अक्षम्य अपराध है जिसके खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई होनी चाहिए।

केट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भर्तियां ने कहा कि यह कथन बेहद चैंकाने वाला और अविश्वसनीय है। नागालैंड को भारत के बाहर कहकर फ्लिपकार्ट ने नागालैंड और पूर्वोत्तर के लोगों की भावनाओं का न केवल अपमान किया है, बल्कि हर भारतीय को आहत किया है। आज फ्लिपकार्ट ने नागालैंड को भारत के बाहर का हिस्सा बताया है, कल वो लेह लद्दाख को भी भारत के बाहर का हिस्सा कह सकते हैं। फ्लिपकार्ट के बयान ने भारत की संप्रभुता को चुनौती दी है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

कैट के महानगर अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय खाद्य तेल व्यापारी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंकर ठक्कर ने कहा कि यह फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों की मानसिकता को बयान करता है। इस तरह के गंभीर और गलत बयान जो केवल एक दुश्मन ही कह सकता है , इसके लिए कोई माफी स्वीकार नहीं की जा सकती क्योंकि यह बयान फ्लिपकार्ट के अधिकृत ट्विटर हैंडल से किया गया है इसलिए इसे किसी का व्यक्तिगत विचार के रूप में नहीं लिया जा सकता है ।

ऐसा प्रतीत होता है कि कम्पनी के वरिष्ठों द्वारा कर्मचारियों के लिए किसी प्रकार की ट्यूशनिंग की गई होगी। यह देश के दूर-दराज के क्षेत्रों के प्रति कंपनी की मानसिकता को भी चित्रित करता है जहां कम्पनी के लिए विक्रेता सेवाएं प्रदान करने के लिए फायदेमंद नहीं हैं।

198 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: