केंद्र सरकार द्वारा प्याज निर्यात रोके जाने के खिलाफ कांग्रेस का विरोध आंदोलन

वरिष्ठ संवाददाता
ठाणे। प्याज की अच्छी पैदावार होने के बाद भी केंद्र सरकार इसके निर्यात पर रोक लगा दी है। जिस कारण देश के प्याज उत्पादक किसानों पर कोरोना के बाद नई आफत लाद दी गई है। निर्यात रोके जाने से प्याज की कीमत नीचे आ गई है। इस कारण किसान भारी नुकसान झेलने पर मजबूर है। इसी मुद्दे को लेकर ठाणे शहर में कांग्रेस की ओर से केंद्र सरकार के निर्णय के खिलाफ विरोध आंदोलन किया गया।
ठाणे शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष विक्रांत चव्हाण के नेतृत्व में प्याज निर्यात पाबंदी के खिलाफ जोरदार विरोध आंदोलन किया गया। प्रदेश नेतृत्व के निर्देश पर यह विरोध आंदोलन किया गया। कहा गया है कि एक तो कोरोना संकट के कारण किसानों का बुरा हाल था। तो वही प्याज निर्यात से किसानों को पैसे मिलनेवाले थे। लेकिन उसकी संभावना को केंद्र सरकार ने समाप्त कर दिया।

कांग्रेस के मध्यवर्ती कार्यालय के बाहर यह विरोध आंदोलन किया गया। जिसमें शहर अध्यक्ष चव्हाण के साथ ही पार्टी महासचिव सचिन शिंदे, महिला काँग्रेस अध्यक्षा शिल्पा सोनोने, सुखदेव घोलप, शहर काँग्रेस महासचिव  अॅड झिया शेख, शिरीष घरत, प्रसाद पाटील, महेद्र म्ह्मात्रे, विजय बनसोडे, मंजूर खत्रि, धर्मवीर मेहरोल, रमेश इंदिसे, हिन्दुराव गळवे, राजू शेट्टी, हेमांगी चोरगे, युवक काँग्रेस अध्यक्ष आशिष गिरी, मेहेर चौपाने, विनीत तिवारी, दिपक पाठक, निर्मला जोशी, डॉ.जयेश परमार, अंजनी सिंग, पप्पू सिंग, उमेश सिंग, निजाम शेख, विश्वनाथ कीरकीरे, राजू हैबती, तोकीर शेख,आसद चाउस, सुभाष ठोंंबरे,आदि पदाधिकारी शामिल थे।
ठाणे शहर काँग्रेस अध्यक्ष अँड.विक्रांत चव्हाण ने मांग की है कि केंद्र सरकार अपने निर्णय वापस लें। अन्यथा उत्पादित प्याज किसान सड़क पर आजाएंगे। इससे किसानों को घाटा हो रहा है।

87 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: