ट्रक चालक बकाया लोन भरने बजाय आग के हवाले पहुंचा अस्पताल

सूत्रों से जानकारी।

उत्तर प्रदेश। जिला जौनपुर ट्रक चालक द्वारा लोन नही भरने को लेकर फाइनेंस कंपनी के कर्मचारियों ने पकड़ा जिसके बाद चालक ने खुद को किया आग के हवाले गम्भीर अवस्था मे पहुंचा जिला अस्पताल मामले की चल रही जांच।
मामला आजमगढ़ के सरायमीर कोतवाली क्षेत्र के पेड़रा गांव निवासी 50 वर्षीय सत्यप्रकाश राय की है। राय अपने ट्रक खुद चलाते हैं। उनका पुत्र श्यामानंद इसी ट्रक पर खलासी के रूप में काम करता है।
मिली सूत्रों से जानकारी अनुसार पिता-पुत्र दोनों बुधवार को मध्य प्रदेश के रीवा से ट्रक में गिट्टी भरकर आजमगढ़ के लिए जा रहे थे। जिन्हें बुधवार दोपहर करीब डेढ़ बजे के आसपास ट्रक के बदलापुर क्षेत्र में पहुँचते ही ट्रक का पीछा करते हुए इंडिगो कार सवार चार लोगों ने ट्रक रोक लिया।
जिस दौरान कार सवार खुद को फाइनेंस कंपनी का कर्मचारी बताते हुए लोन की साढ़े तीन लाख रुपये बकाया राशि मांगने लगे जिसके बाद ट्रक चालक ने कोरोना महामारी के कारण लोन भरने में असमर्थता जाहिर की और सरकार के निर्देशों का हवाला देते हुए लोन वसूली में राहत देने की बात कहि। इसी बात को लेकर चालक राय और फाइनेंस कर्मचारियों की बीच विवाद बढ़ गया।
जिसके बाद पुत्र श्यामानन्द का आरोप हैकि जौनपुर जिले के बदलापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत घनश्यामपुर बाजार के पास निर्माणाधीन फोरलेन पर बुधवार दोपहर फाइनेंस कंपनी के कर्मचारियों ने पीछा कर ट्रक को रुकवाया बकाया राशि मांगने लगे जिसके बाद पिताजी और उन लोगों के बीच कहासुनी बढ़ गई गुस्साए कर्मचारियों ने बोतल में पेट्रोल भरकर ट्रक चालक पिताजी के ऊपर पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जला दिया।
जिसके बाद आसपास के लोग मौके पर जुट गए और किसी तरह आग को बुझाने का कार्य किया। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर आई पुलिस ने गंभीर रूप से जले हुए ट्रक चालक राय को प्राथमिक उपचार के लिए बदलापुर स्थिति सीएचसी अस्पताल पहुंचाया।
लेकिन हालत गम्भीर होने कारण उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया।
जबकि दो आरोपियों को ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। तो वही पुलिस का दावा है कि ट्रक चालक ने फाइनेंस कर्मचारियों से विवाद के बाद खुद को आग लगाई है। पुलिस मामले की गम्भीरता से जांच रही है।

125 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: