11 लाख का नक़ली नोट के साथ चार गिरफ्तार

उदयभान पाण्डेय।

ठाणे। नकली नोट गिरोह का हुआ पर्दाफाश ठाणे अपराध शाखा के हप्ता विरोधी दस्ते द्वारा एक ऐसे गिरोह का पर्दाफ़ाश किया गया है जो हूबहू नकली नोट बनाने में महारत हासिल कर लिया था। इस मामले में पुलिस ने 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है तथा उनके पास से 11 लाख 40 हजार मूल्य का नकली नोट बरामद कर लिया है।

ठाणे पुलिस मुख्यालय में आयोजित एक पत्रकार परिषद में बताया गया कि हप्ता विरोधी दस्ते के बारिष्ठ पुलिस निरीक्षक आर वी कोथमिरे को सूचना मिली थी कि नकली नोट बनाने वाला एक गिरोह मुंब्रा स्टेशन के आसपास आने वाला है। इस सूचना के आधार पुलिस ने मुंब्रा स्टेशन के सामने स्थित दत्त पेट्रोल पंप के आसपास जाल बिछा रखा था। इसी दौरान चार लोगों को संदिग्ध परिस्थितियों में घूमते देख पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और पूछताछ की तो इस मामले का भंडाफोड़ हो गया।

मुंब्रा के अमृत नगर स्थित ग्रीन पार्क बिल्डिंग निवासी मोज़म्मिल मो सालेह(40), अंधेरी के मरोल नाका स्थित चिमटा पाढ़ा त्रिभुवन चाल निवासी मुजफ्फर शौकत पावसकर(41) सकी नाका स्थित ताना जी नगर निवासी प्रवीण देवजी परमार(43) तथा मुंब्रा के बॉम्बे कालोनी स्थित वसीम बिल्डिंग निवासी नसरीन इम्तियाज काजी(41) आदि आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को इनके पास से 200 के 15 नोट,500 के 948 नोट तथा 2000 के 336 नोट बरामद किए गए है।कुल बरामद नकली नोटों की कीमत 11 लाख 40 हजार है। बरामद नकली नोटो को ठाणे, मुंब्रा, नवी मुंबई तथा मुबई में चलाने की योजना थी।

पुलिस के मुताबिक आरोपी परमार नकली नोट बनाने का मुख्य मास्टर माइंड है। आरोपी मुजफ्फर के स्कैनर प्रिंटर से जेके ब्रांड पेपर पर नकली नोटो की हूबहू छपाई करता था। पुलिस ने इनके पास से 7 मोबाइल भी बरामद किया है।आरोपियों ने अबतक कितने नोटो की छपाई की है,औऱ इस गिरोह में कितने लोग जुड़े है,इसका पता लगाने में जुटी हुई है।

90 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: