भारी बरसात के कारण धान की फसल बर्बाद किसान चिंतित

यूपी,संवाददाता।
उत्तरप्रदेश। बाराबंकी जिले में पूरी रात हुई बारिश ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है । बारिश के कारण खेतों में पानी भर गया जिससे तैयार धान की फसल कटने से पहले ही जलमग्न हो गयी । धान की फसल कटने की शुरुआत एक महीने बाद होनी थी इस लिए यह तैयारी के अन्तिम चरण में थी मगर यह कटकर किसानों के घर पहुँचती उससे पहले ही बारिश ने अपना कहर दिखा दिया । किसान अब अन्तिम चरण में फसल बरबाद होने से सदमें में आ गया है ।
बाराबंकी में आज पूरी रात तेज बारिश होती रही और इस बारिश से बरबाद होती रही किसानों की उम्मीदें क्योंकि कुछ ही दिन बचे थे। जब उनकी लहलहाती धान की फसल कट कर उनके घर आ जाती और उन्होंने जो इस फसल के जरिये भविष्य के सपने देख रखे थे वह सब पूरे हो जाते।
मगर होनी को शायद यह मन्जूर नही था और अन्तिम चरण में पहुँच चुकी फसल को अचानक बारिश ने बरबाद कर दिया । किसान जो अपनी फसल की बुवाई के समय ही अपने बच्चों की पढ़ाई , उनकी शादी , बूढ़ों का इलाज और अन्य घरेलू जरूरतों के बारे में योजना बना लेता है लेकिन अचानक आयी दैवीय आपदा उनके सपनों को चकनाचूर कर देती है कुछ ऐसा ही किया है अचानक हुई इस बारिश ने ।
तस्वीरों में किसानों की बरबादी साफ देखी जा सकती है जहाँ खेत और उसमें लगी धान की फसल जलमग्न होकर किसानों को मुँह चिढ़ाती दिखाई दे रही है । अगर यह बारिश कुछ दिन और न आती तो यही फसल किसानों की उन्नति का कारण बनती मगर आज यही फसल उनकी बरबादी का कारण बनी हुई है ।
यह फसल जलमग्न होने के कारण अब सड़ना शुरू होगी जो किसानों की मुसीबत का कारण बनेगी , अभी यह फसल इतनी पकी भी नही है कि किसान इन्हें काट कर ऊँचे स्थान पर सूखा कर लें इससे यह साफ है कि इस दिशा में किसानों द्वारा की गयी मेहनत किसी काम नही आने वाली है ।बरबाद हुई फसल के बारे में किसानों ने बताया कि इस बारिश ने उनके भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है । अब कैसे काम चलेगा यह समझ में नही आ रहा है । पूरी फसल खेतों में पानी भर जाने से डूब गई है जो अब सड़ना शुरू हो जाएगी । उनके ऊपर काफी कर्ज है मगर सरकार कर्ज माफ भी कर देती है तो उनके बच्चों के मुँह तक खाने का निवाला कैसे पहुँचेगा यह चिन्ता उनको खाये जा रही है । रात भर की बारिश ने उनका सब कुछ बरबाद कर दिया है ।
65 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: