पिता की हुई हत्या नही मिला न्याय, पुत्र सूरज राय पढ़ाई कर बने एसपी ।

जयप्रकाश तिवारी।

जौनपुर। एक छात्र जिसे इंजीनियरिंग करनी थी लेकिन सिस्टम की लापरवाही के कारण जब उसको न्याय नहीं मिला तो उसने सिस्टम बदलने की ठान ली। खूब पढ़ा। दिनभर पढ़ाई में रमा रहा सिर्फ इसलिये एक समय ऐसा आयेगा जब वो गरीबों को, मजलूमों को न्याय दिलाने की स्थिति में होगा। ये कहानी है सूरज कुमार राय की, जिन्होंने 2017 की यूपीएससी परीक्षा में 117वीं रैंक हासिल की। उनकी कहानी भले ही आपको थोड़ी फिल्मी लगे लेकिन वो बेहद दुखभरी और संघर्षपूर्ण है।

बचपन में तो सूरज कुमार ने कभी आइएएस बनने के बारे में सोचा भी नहीं था। लेकिन जब किस्मत ने अपने रंग दिखाये तो सूरज ने दृढ़ निश्चय किया और जो निश्चय किया उसे करके भी दिखाया।वे बचपन से पढ़ाई में ठीकठाक थे। जब इंजीनियरिंग के फर्स्ट इयर में थे तब उनके पिता की जान ले ली गई।

घटना के दो साल बाद भी पुलिस कोर्ट में कुछ ज्यादा सबूत पेश नहीं कर पाई। यही नहीं उनका कहना है कि उन्हें अपने पिता के केस में न्याय भी नहीं मिला। वो जब थाने जाते तो उन्हें घंटों इंतजार करवाया जाता। सूरज ने इसी लाचार सिस्टम को देख खुद एक अफसर बनने का निर्णय लिया और इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाने की बजाये ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी की और आज वो एक आईपीएस ऑफिसर हैं।

62 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: