झूठा बलात्कार का आरोप खाकी वर्दी पर लगाने वाली महिला गई जेल

वरिष्ठ संवाददाता

मुंबई। मामला जनवरी 2020 में घाटकोपर पुलिस की हद में रहने वाली सलमा शेख (बदला हुआ नाम) नामक महिला ने शिकायत दर्ज कराया था कि डिटेक्शन के दो पुलिस कर्मचारी व एक रिक्शा चालक ने उसके घर मे जबरन घुस कर उसके साथ सामूहिक बलात्कार कर उसका गर्भपात कराया है, और उसकी नाबालिक बेटी का विन्यभंग किया है।इस मामले के प्रकाश में आते ही पूरे पुलिस विभाग में खलबली मच गई थी।जिसके बाद तत्कालीन पुलिस उपायुक्त अखिलेश कुमार सिंह ने मामले की गंभीरता को देखते हुए यह मामला कांजुरमार्ग पुलिस को वर्ग कर कड़ी जांच का निर्देश दिया था।

पुलिस जांच में पाया गया कि जिस दिन का हवाला देकर महिला ने पुलिस वालो को फंसाया था उस दिन एक पुलिस कर्मचारी किसी मामले की जांच पड़ताल के उत्तर प्रदेश के कानपुर में था तो दूसरा कर्मचारी गुजरात मे किसी आरोपी को पकड़ने के लिए गया था।जबकि उनका खबरी रिक्शा चालक उस दिन साकी नाका स्थित अपने घर मे परिजनों के साथ था।इतना ही नही शिकायत करने वाली महिला खुद उस दिन राजावाड़ी अस्पताल में भर्ती थी।इन सबके बावजूद भी महिला ने किसी के बहकावे में आकर घटना के 58 दिन बाद यह मामला दर्ज कराया था जो बिल्कुल तथ्यहीन था।यह बात सीडीआर लोकेशन से एसआईटी टीम को मालूम पड़ गया।

जिसके बाद एसआईटी की टीम ने महिला के झूठ का पर्दाफाश कर दिया।एसआईटी टीम को यह भी जांच पड़ताल में मालूम पड़ा कि शिकायकर्ता महिला खुद अनैतिक कारोबार में लिप्त है।न्यायालय में एसआईटी ने जो साच्छय प्रस्तुत किया उससे शिकायत कर्ता महिला के झूठ की पोल खुल गई।

सामूहिक बलात्कार गर्भपात व पोक्सो नियम के तहत आरोप लगाकर खाकी वर्दी पर दाग लगाने वाली महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे डाला है।जिससे दो पुलिस कर्मचारी व एक रिक्शा चालक का भविष्य उध्वस्त होने से बच गया है।

पुलिस उपायुक्त प्रशांत कदम के निर्देश पर घाटकोपर पुलिस ने 25 सितंबर को सलमा के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।उसे न्यायालय में पेश करने पर मा. न्यायाधीश ने उसे चार दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा है।इस मामले में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश घाटकोपर पुलिस कर रही है।

69 views
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: